What is BOOTP in Hindi? BOOTP क्या है और यह कैसे काम करता है?

What is BOOTP in Hindi?

BOOTP एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसका पूरा नाम बूटस्ट्रैप प्रोटोकॉल (bootp meaning in hindi) है. बूटस्ट्रैप प्रोटोकॉल का मुख्य उपयोग नेटवर्क में डिवाइसों को IP एड्रेस असाईन कराने के लिए किया जाता है.

learn BOOTP hindi
learn BOOTP hindi

दुसरे शब्दों में कहे तो बूटस्ट्रैप एक इन्टरनेट प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग क्लाइंट कंप्यूटर के द्वारा सर्वर से आई पी एड्रेस प्राप्त करने के लिए किया जाता है. Bootstrap का उपयोग TCP/IP नेटवर्क में कंप्यूटर का IP एड्रेस का पता लगाने के लिए किया जाता है.

बूटस्ट्रैप कैसे काम करता है?/ how to use bootp in hindi

जब कोई भी बूटस्ट्रैप क्लाइंट ऑन होता है तो उसके पास IP address नहीं होती है. जिसके चलते नेटवर्क में वह एक message को ब्रॉडकास्ट करता है. इस मेसेज में बूटस्ट्रैप क्लाइंट का मैक एड्रेस डला रहता है. जिसे बूट रिक्वेस्ट कहा जाता है. इस बूट पी रिक्वेस्ट को BOOTP Server के द्वारा Receive कर लिया जाता है. BOOTP इनफार्मेशन रिसीव करने के बात निम् प्रकार के इनफार्मेशन प्रदान करता है.

    1. BOOTP सर्वर क्लाइंट को रिप्लाई करते हुए Client IP Address, Subnet Mask, Gateway Address का इनफार्मेशन प्रोवाइड करता है.
    2. इसके अलावा BOOTP सर्वर का आई पी एड्रेस और होस्ट नेम को प्रोवाइड करता है.
    3. इसके अलावा तीसरे इनफार्मेशन के रूप में उस सेर्विएर का आई पी एड्रेस जिसके पास बूट इमेज है.
bootp bootstrap protocol
bootp bootstrap protocol

बूटस्ट्रैप क्लाइंट में ऑपरेटिंग सिस्टम को लोड करने के लिए बूट इमेज की जरुरत होती है. जब क्लाइंट के पास BOOTP सर्वर की information रिसीव हो जाती है तब यह TCP/IP प्रोटोकॉल Stack को configure तथा initialize करता है, और उसके बाद उस सर्वर से कनेक्ट करता है जिसके पास बूट इमेज होती है. क्लाइंट इस बूट इमेज को लोड करता है और ऑपरेटिंग सिस्टम को स्टार्ट करता है . बूटस्ट्रैप प्रोटोकॉल इस प्रकार से काम करता है.

BOOTP protocol hindi
BOOTP protocol hindi

BOOTP प्रोटोकॉल से जुड़े महत्वपूर्ण बातें: –

    1. बूटस्ट्रैप को RFC 951और 1084 में डिफाइन किया गया है.
    2. बूटस्ट्रैप प्रोटोकॉल को RARP(resource address resolution protocol ) को रिप्लेस करने के लिए किया जाता है.
    3. BOOTP प्रोटोकॉल Relay Agent का उपयोग लोकल नेटवर्क से डाटा पैकेट को फॉरवर्ड करने के लिए करता है.
    4. BOOTSTRAP प्रोटोकॉल नेटवर्क के डिस्कलेस कंप्यूटर से IP Address, Subnet Mask और राऊटर एड्रेस के इनफार्मेशन को रिसीव करता है.
    5. BOOTP का उपयोग अक्सर TFTP Server और BOOT इमेज को निकालने के लिए करते है.
    6. बूटपी प्रोटोकॉल का उपयोग डिस्कलेस कंप्यूटर और वर्कस्टेशन करते है.
नेटवर्किंग में बूटस्ट्रैपिंग क्या है?

Bootstraping का तात्पर्य नेटवर्क के कंप्यूटर को IP Address देने के लिए आटोमेटिक कॉन्फ़िगर करना है. BOOTP नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसका मुख्य काम नेटवर्क में डिवाइसों को IP एड्रेस असाईन कराने के लिए किया जाता है.

नेटवर्क में Diskless computer क्या है?

नेटवर्क का ऐसा कंप्यूटर जिसमे किसी भी प्रकार के स्टोरेज डिवाइस नहीं लगा होता है. डिस्क लेस कंप्यूटर में सामान्य कंप्यूटर की तरह हार्ड डिस्क, फ्लॉपी डिस्क या ssd जैसे स्टोरेज डिवाइस नहीं लगे होते है. डिस्क लेस कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम नेटवर्क सर्वर में इनस्टॉल रहता है.

Disk Less कंप्यूटर में किसी भी प्रकार के स्टोरेज डिवाइस नहीं लगी होती है. इसका ऑपरेटिंग सिस्टम सर्वर से बूट होता है.

Difference Between BOOTP and DHCP in Hindi

BOOTP और DHCP दोनों ही नेटवर्क प्रोटोकॉल है जिसमे बहुत से अंतर होते है. जिनको हम निचे बता रहे है.

BOOTP protocol in Hindi

    1. BOOTP का पूरा नाम bootstrap protocol है.
    2. यह DHCP का legacy version है.
    3. बूटपी प्रोटोकॉल temporary IP address प्रोविड नहीं करता है.
    4. बूटपी प्रोटोकॉल DHCP क्लाइंट के साथ कम्पेटिबल नहीं होते है.
    5. मोबाइल फ़ोन से IP configuration और information को एक्सेस नहीं कर सकता है.
    6. यह नेटवर्क के डिस्क लेस और वर्क स्टेशन कंप्यूटर को आई पी इनफार्मेशन प्रदान करता है.
    7. बूट पी प्रोटोकॉल को RARP प्रोटोकॉल को रेप्लेस करने के लिए बनाया गया है.
    8. यह कंप्यूटर के बूट होने के समय आईपी एड्रेस प्रोविड करता है.

DHCP प्रोटोकॉल इन हिंदी

    1. DHCP का पूरा नाम Dynamic Host Configuration Protocol है.
    2. यह BOOTP का एडवांस वर्शन है.
    3. DHCP नेटवर्क में temporary IP address प्रोविड करता है.
    4. यह बूटपी क्लाइंट के साथ comptible होते है.
    5. डी एच् सी पी प्रोटोकॉल मोबाइल डिवाइस को सपोर्ट करता है.
    6. सुचना को रखने के लिए डिस्क की जरुरत पड़ती है.
    7. DHCP को BOOTP को रेप्लेस करने के लिए बनाया गया है.
    8. ऑपरेटिंग सिस्टम के लोड होने के बाद आईपी एड्रेस प्रोवाइड करता है.

BOOTP प्रोटोकॉल यूजर डाटाग्राम प्रोटोकॉल (UDP) के 67 और 68 पोर्ट का उपयोग करता है. DHCP प्रोटोकॉल BOOTP का एडवांस वर्शन है तो BOOTP प्रोटोकॉल पर आधारित है. दोनों DHCP और BOOTP प्रोटोकॉल एक सामान पोर्ट पर काम करते है. जिसके चलते दोनों प्रोटोकॉल का उपयोग एक साथ नहीं किया जा सकता है.

तो दोस्तों उम्मींद करता हु यह लेख Bootstrap protocol क्या है? (Bootstrap protocol kya hai) आपको बहुत पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख ( BOOTP kya hai ) पसंद आया हो तो लाइक करें। लोगो को शेयर करें।

अब दोस्तों यदि कोई ये BOOTP क्या है? (BOOTP meaning in hindi) से जुड़े तथ्यों की चर्चा करता है Bootstrap protocol क्या है? (BOOTP uses in hindi) तो आप आसानी से जवाब दे पाएंगे। दोस्तों कोई सवाल आप पूछना चाहते है तो निचे Comment Box में जरुर लिखे और अगर आपके को सुझाव है तो जरुर दीजियेगा। दोस्तों हमारे अन्य वेबसाइट https://www.nayabusiness.in एवं Youtube चैनल computervidya को अगर आप अभी तक सब्सक्राइब नहीं किये तो तो जरुर सब्सक्राइब कर लेवें।

 

Related Post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

हमारे साथ जुड़े

537FansLike
406FollowersFollow
561,000SubscribersSubscribe

पॉपुलर पोस्ट्स

error: Content is protected !!