Home Best Manufacturing Business Slipper making Machine in low investment india 2019 || New business ideas...

Slipper making Machine in low investment india 2019 || New business ideas for Indian Market 2019

div class=”Mytablecontenttitle”>

Contents:-


Slipper Making Business(स्लीपर बिज़नस)

नमस्कार दोस्तों कंप्यूटर विद्या में आपका स्वागत है। आज के इस वीडियो में हम slipper making Business ideas के बारे में बताएंगे। साथ ही इस Business में प्रयोग होने वाले Slipper machine को Live दिखायेंगे। और मशीन के जानकारी के साथ साथ इसमें प्रयोग होने वाले raw material, बिज़नस में लागत और मुनाफा , लाइसेंस, मशीन की वार्रेंटी, मैन्टेनेंस और इससे बनने वाले Slipper chappal के मार्केटिंग के बारे में विस्तार से बताएँगे।

दोस्तों आज के समय में हमारे देश में बेरोजगारी बहुत अधिक बढ़ रही है। अतः दोस्तों हमारा कोशिश यही है की हमारे देश के सभी नौजवान, बेरोजगार, युवक, महिलाये, पुरुष जो की अपना स्वयं का बिज़नस लगाकर रोजगार पा सकते है। और इनके आप जरिये अच्छी खासी कमाई कर सकते है।


Slipper Making Business की डिमांड

दोस्तों, स्लीपर के बारें में आप सभी जानते है यह एक आरामदायक चप्पल है, जिसका प्रयोग प्रायः सभी घर के अन्दर होता हैं. हालाँकि कुछ स्लीपर ऐसे भी होते हैं, जिन्हें पहन कर घर से बाहर भी जाया जा सकता है। दोस्तों, छोटे बड़े मार्किट एवम् शॉप में विभिन्न तरह के स्लीपर बिकते हैं। कई छोटी – बड़ी कंपनियां इसे बना कर काफी ज्यादा लाभ कमाती हैं।.आप भी इस व्यापार की सहायता से प्रति महीने अच्छी खासी कमाई कर सकते है।


Slipper Making Machine की कीमत

दोस्तों स्लीपर मेकिंग मशीन की विभिन्न वेरिएटी में आती है जिनकी कीमत भिन्न – भिन्न होती है। स्लीपर मेकिंग मशीन की कीमत 21 हजार रूपये से लेकर, एक लाख, एक लाख 20 हजार, एक लाख 60 हजार, एक लाख 80 हजार से 2 लाख रूपये तक की आती है।

स्लीपर मेकिंग मशीन के साथ 23 प्रकार के सांचे अथार्त डाई आते है। जिनके सहायता से 3 नंबर से लेकर 12 नंबर तक के स्लीपर चप्पल अर्थात कोई भी साइज़ के जैसे छोटे बच्चो से लाकर महिलाये पुरुष सभी के लिए स्लीपर बनाये जा सकते है।


स्लीपर बनाने का प्रोसेस

दोस्तों स्लीपर बनाने के प्रोसेस 4 स्टेप होते है जो की 4 अलग अलग मशीन के द्वारा किया जाता है। और जब कस्टमर स्लिपर मेकिंग मशीन खरीदता है तो उनको ये चारो मशीन एक साथ दिया है। हमारे द्वारा जो मशीन की प्राइस बताई गयी है वो चारों मशीन की एक साथ प्राइस है।

दोस्तों स्लिपर मेकिंग मशीन के चार मशीन जिसमे पहला सोल कटिंग मशीन है। जिनके द्वारा डाई के माध्यम से सोल की कटिंग के साथ साथ सोल में बत्ती के लिए तीन छेद किया जाता है। दूसरी मशीन जो की ड्रील मशीन होती है। जिनकी सहायता से सोल के तीनो छेदों को बत्ती के लिए प्रॉपर सेप में लाया जाता है। तीसरी मशीन जो की ग्राइन्दर मशीन होती है जिनके सहायता से कटे हुए सोल को बाहरी किनारों को फिनिशिंग देते है। चौथी मशीन स्ट्रेप्स मशीन होती है जिनकी माध्यम से सोल में बत्ती को लगाया जाता है। यह स्लीपर मेकिंग मशीन का लास्ट प्रोसेस होता है।

इन चारो मशीन की प्रोसेस को पूरा करने के पश्चात स्लीपर पूरी तरह बन जाता है।और यह मार्किट में बिकने के लिए तैयार हो जाता है। यह पूरा प्रोसेस एक से 2 मिनट का होता है जिसमे स्लीपर बनकर तैयार हो जाता है।


चप्पल मेकिंग बिज़नस का रॉ मटेरियल

दोस्तों slipper making business में आपको दो प्रकार के raw material की जरुरत पड़ती है। जिसमे पहला रबर सिट सीट्स होती है इनमे विभिन्न वेरिएटी और quality आती है जिसकी कीमत 350 रूपये से 1000 प्रति शीट तक होती है।

दोस्तों, दूसरा रॉ मटेरियल स्ट्रेप्स शीट्स या रिबन, फीता या बत्ती होती है। ये भी विभिन्न वेरिएटी और quality में आता है जिनकी कीमत 4 रूपये से 11 रूपये प्रति रिबन होती है. आप इन सभी रॉ मटेरियल को वीडियो के नीचे डिस्क्रिप्शन पर दिए गए विक्रेता के नंबर पर कॉल करके घर पर मंगवा सकते हैं।

यह भी पढ़ें:-


स्लीपर का उत्पादन

दोस्तों यह हमारे द्वारा दिखाए गए मशीन से एक्सपर्ट एक घंटे में 300 से 400 पिस स्लीपर चप्पल तैयार कर सकता है।साथ ही दोस्तों स्लिपर का प्रोडक्शन मशीन और उसको ऑपरेट करने वाले कारीगर पर निर्भर करता है |अधिक उत्पादन के लिए आप अधिक क्षमता वाले मशीन का प्रयोग कर सकते है।


स्लीपर को कहा बेचें?

स्लीपर को बेचने के लिए आप अपने नजदीकी मार्किट में होल सेलर और छोटे बड़े सभी दुकानदारों से संपर्क कर सकते है या आप कुछ एजेंट रखकर विभिन्न हॉट मार्केट में जैसे रविवार बाज़ार, मंगल बाज़ार, शुक्रवार बाज़ार इत्यादि में भी ढेरी लगाकर स्लीपर की बिक्री करा सकते है।

इसके अलावा अगर आपका बजट बड़ा है तो अपने ब्रांड के स्लीपर की advertisement के लिए रेडियो, अख़बार, टीवी, होडिंग एवम् पोस्टर इत्यादि में कर सकते है। जिससे थोड़ी ही दिनों में स्लीपर बिकने लगेगा।


स्लिपर मेकिंग बिज़नस की लागत

दोस्तों आप इस बिज़नस को तीन तरीके से कर सकते है पहला तरीका स्लीपर मेकिंग का मैन्युअल मशीन लगाकर इस बिज़नस को बहुत ही कम बिज़नस में शुरू कर सकते है। इस मशीन के लिए आपको बिजली की जरुरत नहीं होगी। यह बहुत ही कम बजट में शुरू हो सकता है । दूसरा तरीका जिसमे आप स्लीपर मेकिंग का सेमी ऑटोमेटिक मशीन खरीद कर स्लीपर बनाने का कम शुरू कर सकते है इसमें आप को लगभग 3 लाख रूपये का इन्वेस्टमेंट करना पड़ सकता है। तीसरा आप फुल्ली ऑटोमेटिक मशीन खरीद कर इस बिज़नस को शुरू कर सकते है।इसमें आपको 2 लेवर की जरुरत पड़ सकती है । इसमें आप 5 लाख से 10 लाख के इन्वेस्टमेंट में शुरू कर सकते है।


स्लिपर मेकिंग बिज़नस में कमाई

दोस्तों बच्चो के स्लीपर जिनमे 3 नंबर से 6 नंबर तक के चप्पल की बनाने की पूरी लागत 15 रूपये से 16 रूपये तक का खर्च आता है। जबकि बड़ो की स्लिपर जो की 8 से 10 नंबर तक के स्लिपर को बनाने की लागत 30 से 35 रूपये तक का खर्च आता है।

दोस्तों आपका मुनाफा आपके मशीन, कार्य और एरिया पर निर्भर करता है का खर्च आता है। इस तरह आप सारा मेंटेनेंस कास्ट और रॉ मटेरियल कास्ट हटा कर एक महीने में 70 से 80 हजार तक की कमाई कर सकते है।

दोस्तों ओवरआल कमाई की बात करें तो पहले से स्लिपर बिज़नस कर रहे व्यापारियों के अनुसार सारा खर्च निकालकर इस बिज़नस में 30 हजार रूपये से लेकर 3 लाख तक की कमाई की जा सकती है।


मशीन के लिए इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन

दोस्तों इस मशीन पर 2 किलो वाट लोड रहता है यह मशीन सिंगल फेस इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन पर चल जाता है।इसे आप अपने घर के घरेलु इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन पर इस मशीन को चला सकते हैं। और यदि आप चाहें तो सिंगल फेस में इसके लिए कमर्शियल कनेक्शन लेकर इस बिजनेस को शुरू कर सकते हैं।


स्लीपर मेकिंग बिज़नस की लाइसेंस

दोस्तों, यदि आप इस बिज़नस को छोटे पैमाने में शुरू करना चाहते है तो आपको सबसे पहले उद्योग आधार या भारत सरकार के MEME के अंतर्गत व्यापार को रजिस्टर कराना होगा।

इसके अलावा आप चाहे तो आपके ब्रांड का पंजीकरण ISI के अंतगर्त दाखिल कराना होगा। बिज़नस को सुचारू रूप से चलाने के लिए आपको ट्रेड लाइसेंस, फर्म का करंट अकाउंट, पैन कार्ड इत्यादि की आवश्यकता होगी।


स्लिपर की ब्रांडिंग

दोस्तों स्लीपर बनाने तथा कंपनी की रजिस्ट्रेशन के पश्चात आप अपने लोगो को स्लिपर में लगाने के लिए स्क्रीन प्रिंटिंग के सहायता से कर सकते है। स्क्रीन प्रिंटिंग की सहायता से आप सोल सीट पर नए नए डिजाईन छाप कर नए नए डिजाईन के स्लिपर बना सकते है।इसके अलावा आप पैकिंग कार्टून पर भी स्क्रीन प्रिंटिंग की सहायता से अपने कंपनी का लोगो छाप सकते है। हमने आपने चैनल में स्क्रीन प्रिंटिंग के विभिन्न विडियो टुटोरिअल अपलोड किये है उन्हें देखकर आप स्क्रीन प्रिंटिंग सिख सकते है। साथ ही आप उनका बिज़नस भी कर सकते है।


मशीन की वार्रेंटी एवं मेंटेनेंस

दोस्तों वीडियो में दिखाए गए मशीन को खरीदने पर आपको 5 साल की वारंटी मिलती है। दोस्तों यह मशीन सेमी ऑटोमेटिक और फुल्ली आटोमेटिक है अतः इस पर मेंटेनेंस का ज्यादा कार्य नहीं करना पड़ता केवल आपको समय-समय पर इसका ओइलिंग और ग्रीसिंग करना होगा।


स्लीपर मेकिंग बिज़नस में रिस्क

दोस्तों, हमारी एक बात और ध्यान से सुने, जिस प्रोडक्ट की आपको अच्छे से जानकारी हो और आपके एरिया में उसकी बहुत अधिक डिमांड हो वही बिज़नस शुरू करें। पहले आप अपनी मार्केट बनाओ. नफे / नुकसान का अनुमान लगाओ. उसके बाद ही मशीन ख़रीदो. अगर बिना सोचे सॅम्झ किसी भी बिज़नस में हाथ डालोगे तो बिज़नस से नुकसान भी हो सकता है. वैसे तो चप्पल का मार्किट बारहों महिना चलने वाला बिज़नस है पर आप अपने एरिया में सर्वे करके ही बिज़नस शुरू करे और इनसे अच्छी खासी कमाई कर सके। अगर आपके एरिया में चप्पल का मार्किट ठीक नहीं है तो हमारे द्वारा बताये गए अन्य बिज़नस आईडिया को एक बार जरुर देखे।


प्यारे भाईओ और बहनो हर आदमी चाहता है बिज़्नेस करना.आज की तारीख मैं बहुत से लोग ऐसे चुंगल मैं फस जाते हैं की बाद में पछताना पड़ता है। मेरी बात ध्यान से सुनो. जिस चीज़ की आपको जानकारी हो वोही काम करो. पहले अपनी मार्केट बनाओ. नफे / नुकसान का अनुमान लगाओ. फिर मशीन ख़रीदो. अगर बिना सोचे सॅम्झ किसी भी काम में हाथ डालोगे तो ज़िंदगी भर पछताने के इलावा आपके पास कोई चारा नहीं होगा।

अधिक जानकारी के लिए इसके Part 2 विडियो जरुर देखे। जिसमे हमने विक्रेता से बात की है।

यह भी पढ़ें:-

Related Post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

पॉपुलर पोस्ट्स

Copy Protected by Chetan's WP-Copyprotect.